Tughlak - PDF free download eBook

  • Verified: Wed, Apr 08, 2020
  • Published: 22.01.2019
  • Views: 96

Introduction

तुगलक मोहममद तुगलक चारितरिक विरोधाभास में जीनेवाला एक ऐसा बादशाह था जिसे इतिहासकारों ने उसकी सनकों के लिए खबती करार दिया। जिसने अपनी सनक के कारण राजधानी बदली और ताँबे के सिकके का मूलय चाँदी के...

read more

Details of Tughlak

Original Title
Tughlak
Edition Format
Paperback
Number of Pages
160 pages
Book Language
Hindi
Ebook Format
PDF, EPUB

Press the button start search and wait a little while. Using file-sharing servers API, our site will find the e-book file in various formats (such as PDF, EPUB and other). Please do not reload the page during the search. A typical file search time is about 15-20 seconds.

Tughlak

A free service that helps find an e-book in automatic mode on private file-sharing servers.

Some brief overview of this book

तुगलक मोहममद तुगलक चारितरिक विरोधाभास में जीनेवाला एक ऐसा बादशाह था जिसे इतिहासकारों ने उसकी सनकों के लिए खबती करार दिया। जिसने अपनी सनक के कारण राजधानी बदली और ताँबे के सिकके का मूलय चाँदी के सिकके के बराबर कर दिया। लेकिन अपने चारों ओर कटटर मजहबी दीवारों से घिरा तुगलक कुछ और भी था। उसने मजहब से परे इंसान की तलाश की थी। हिंदू और मुसलमान दोनों उसकी नजर में एक थे। ततकालीन मा तुग़लक मोहम्मद तुग़लक चारित्रिक विरोधाभास में जीनेवाला एक ऐसा बादशाह था जिसे इतिहासकारों ने उसकी सनकों के लिए ख़ब्ती करार दिया। जिसने अपनी सनक के कारण राजधानी बदली और ताँबे के सिक्के का मूल्य चाँदी के सिक्के के बराबर कर दिया। लेकिन अपने चारों ओर कट्टर मज़हबी दीवारों से घिरा तुग़लक कुछ और भी था। उसने मज़हब से परे इंसान की तलाश की थी। हिंदू और मुसलमान दोनों उसकी नज़र में एक थे। तत्कालीन मानसिकता ने तुग़लक की इस मान्यता को अस्वीकार कर दिया और यही ‘अस्वीकार' तुग़लक के सिर पर सनकों का भूत बनकर सवार हो गया। नाटक का कथानक मात्र तुग़लक के गुण-दोषों तक ही सीमित नहीं है। इसमें उस समय की परिस्थितियों और तज्जनित भावनाओं को भी अभिव्यक्त किया गया है, जिनके कारण उस समय के आदमी का चिंतन बौना हो गया था और मज़हब तथा सियासत के टकराव में हरेक केवल अपना उल्लू सीधा करना चाहता है।


All downloaded files are checked. Virus and adware free. Previously, our system checked the all ebook's files for viruses. The results of our verification:

 Google Safe Browsing APINorton Internet SecurityAVG Internet Security
tughlak.pdf
tughlak.epub
tughlak_all.zip